Book Review: परत

  • पुस्तक: परत
  • लेखक: सर्वेश तिवारी “श्रीमुख”
  • रेटिंग: 4.98/5
  • मूल्य: Rs 200

अभी मैंने एक काफी अच्छी पुस्तक “परत” को पढ़ा| राजनितिक विज्ञान या समाजशास्त्र के चिंतकों को अक्सर सलाह दी जाती है कि जब भी विचारों में रुकावटें आए तो उन्हें उपन्यास पढ़ने चाहिए| वहाँ से नए सन्दर्भ मिलते है और समाज की जमीनी हकीकत से अवगत होने का मौका मिलता है| सर्वेश तिवारी की किताब ‘परत’ उन्हीं में से है| इस किताब में लेखक ने ऐसे सामाजिक कुरीतियों को उठाया है जिसे लिखने में अक्सर लोग कतराते है| सिर्फ सही मायने में स्वतंत्र व्यक्ति/लेखक/चिन्तक ही ऐसे मुद्दों को बेबाकी के उठा सकता है|

Liav Orgad अपने पुस्तक “The Cultural Defense of Nations: A Liberal Theory of Majority Rights” में लिखते है कि जो देश काफी लम्बे समय तक गुलाम रहे है उसका तेवर इतना जल्दी नहीं जा सकता है| इसके लिए उन्होंने भारत और दक्षिण अफ्रीका का उदहारण दिया है| यह एक प्राकृतिक सत्य भी है| आप जब कभी ट्रेन रेल में लम्बी यात्रा करेंगे तो उतरने के बाद भी यह एहसास होगा कि आप ट्रेन में ही है| यहाँ तक भूगोल के वैज्ञानिक, अल्फ्रेड वेर्ग्नर ने अपने ‘महाद्वीपीय बहाव सिद्धांत’ यह सिद्ध किया है कि जब एक ही जीव महाद्वीप के बहाव के कारण एक-दुसरे से अलग हो गए तो उसने वहाँ के वातावरण के मुताबिक अपने को ढाल लिया| हजारों साल की गुलामीं ने हमें भी इस्लामिक और यूरोपियन सभ्यता के प्रति वैसा ही ढाल दिया है| इसका असर हमारे समाज में आज भी दिखता है|

सन्दर्भ

सर्वेश तिवारी की यह किताब राजनीती के ऊपर चढ़े तथाकथित “प्रेम” के परत को हमारे सामने उजागर करती है| प्रेम एक शुद्ध शब्द है| यह प्रेम के सहारे ही हमारी सभ्यताएँ आगे बढ़ती रहीं है| लेखक ने अपने पुस्तक में यह समझाने की कोशिश की है कि फ़िल्मी रंगत और असल जिंदगी में कितना फर्क होता है| झूठे फ़िल्मी जुमलों ने प्रेम शब्द को कैसे मटमैला किया है इसका बखूबी जिक्र किया है| भगवान् श्रीकृष्ण की परंपरा को मानने वाली यह सभ्यता प्रेम के खिलाफ तो कतई नहीं है| यह संभ्यता बिना परत के शुद्ध प्रेम की कामना करती है|

See also  कालाधन से लड़ना मुश्किल जरूर लेकिन सार्थक प्रयास जारी

लेखक दो कहानीयों को, ट्रेन की पटरी के तरह सामानांतर शुरू करते है| एक लोकतंत्र और पंचायत चुनाव से कहानी शुरू होती है| दूसरी कहानी एक भोलापन भरा प्रेम से शुरू होती है| बहुत ही बारीकी से लेखक इन दोनों कहानियों को एक समय बाद जोड़ते है| दोनों कहानियाँ हमारे और आपके समाज के बीच की सच्चाई है| कहानी पढ़ते हुए आप कब हसेंगे, कब उदास होंगे और कब उत्सुकता बढ़ेगी यह सारा लेखक के हाथ की कला है| एक और खास बात यह है कि यह कहानी शुरू से अंत तक आपको बांधे रखेगी| शायद यह भी हो सकता है कि किताब के बीच डिवाइडर लगाने का मौका तक न दे|

पंचायती रोमांस

मुझे इस किताब में बहुत सारी नई चीजें सिखने को मिली| पंचायत के चुनाव मिलने वाले आरक्षण को अलग अलग राजनितिक विद्वानों अपनी समझ अपने अध्यन में रखे है| वर्ल्ड बैंक ऐसी व्यवस्था को महिलाओं के उत्थान के तौर पर देखती है| कुछ विद्वान ऐसे प्रनिधित्व को “प्रॉक्सी प्रतिनिधित्व” के तौर पर देखते है| लेकिन लेखक अपने किताब ‘परत’ में जातिगत आरक्षण को भी “प्रॉक्सी प्रतिनिधित्व” के तौर पर पेश किया है जो की एक हद तक सच्चाई भी है| इसका मतलब यह है की पंचायत को सैंवधानिक रुपरेखा देने से पहले जहां सत्ता थी अमूमन सत्ता का केंद्र वही है| हो सकता है कि यह बात सामान्य रूप से हर जगह लागू न हो लेकिन इसकी संभावनाओं को भी नकारा नहीं जा सकता है|

ग्रामीण स्तर पर चुनाव का जिस तरह का माहौल होता है वह यह बताता है कि भले सत्ता स्थिर रहती हो लेकिन कहीं न कहीं जातिगत रेखा को पाटने की कोशिश जरूर करती है चाहे वो बाहरी मन से क्यूँ न हो| यह पंचायत स्तर पर जातिगत राजनीती का दूसरा पहलु है| उदहारण के तौर पर, इस कहानी में जो जातिगत लामबंदी थी वो टूटती नज़र आई है| इसके जगह पर जो गठजोड़ बना है उसमें अलग अलग जाती के लोगों का उपस्तिथि दिखती है| तथाकथित “निम्न जाती” के लोगों ने तथाकथित “उच्च जाती” के लोगों के साथ मिलकर चुनाव लड़ते है| यह कहीं न कहीं जातिगत रेखाओं को हलकी निश्चित रूप से करती ही है|

See also  नई कृषि बाज़ार व्यवस्था: किसान, सियासत और हकीकत

पिता-पुत्री प्रेम

इसके अलावां, यह किताब एक पक्ष पिता-पुत्री के संबंध को भी दर्शाता है| अभिभावक का प्रेम दुनिया में एकलौता प्रेम है जो अपनी औलाद के लिए शेर से भी लड़ने की कुव्वत रखता है| पुत्र-पुत्रियों के होश सँभालने के बाद वो दुनिया का बहुत परवाह करतें नहीं है| हर गलती को माफ़ करते है चाहे वो कितनी भी गंभीर क्यों न हो| इस कहानी में जैसे भोलापन भरा प्रेम में पुत्री धार्मिक राजनीती का शिकार जरूर हो जाती है| इसके बावजूद पिता हर कोशिश करता है कि कम से कम जहाँ है वहाँ सही सलामत से रहे और नया रिश्ता कायम हो| इस प्रक्रिया में वास पूरे समाज से अलग राय रखने के लिए भी राजी हो जाता है|

यह चीज न सिर्फ इंसानों बल्कि जानवरों में भी पाई जाती है| नेशनल जियोग्राफी के एक विडियो में कुछ दिन पहले देख रहा था कि एक हिरण और उसका बच्चा एक तालाब को पार कर रहे थे| माँ पहले किनारे पहुचं जाती है| देखती है कि उसके बच्चे का पीछा कुछ मगरमच्छ कर रहे है| वो तुरंत पानी में कूदती है और खुद मगरमच्छ से सामने खुद की कुर्बानी दे देती है| इस बीच जो समय मिलता है उसमें उसका बच्चा सुरक्षित किनारे तक पहुँच जाता है|

निष्कर्ष

हालाँकि इनकी लेखन शैली अपने आप में अद्भुत है, लेकिन यही लोग आज के प्रेमचंद है| सामाजिक कुरीतियों को जितने बारीकी से सर्वेश तिवारी ने रखने की कोशिश की है वो काफी आकर्षक है| इनके शब्द और जोड़ने की कड़ी का अंदाज आपको भावुक भी करेगी| यह किताब सभी को पढना चाहिए ताकी समाज में चल रहे दिक्कतों को महसूस कर सके| यह किताब किसी सिनेमा के टिकट से भी कम है| हालाँकि सिनेमा का अपना महत्व है, मै उसका अनादर कतई नहीं कर रहा लेकिन यह तुलनात्मक उदहारण इसलिए दे रहा हूँ ताकी यह निश्चित रूप से पढ़ा जाए|

Spread the love

Support us

Hard work should be paid. It is free for all. Those who could not pay for the content can avail quality services free of cost. But those who have the ability to pay for the quality content he/she is receiving should pay as per his/her convenience. Team DWA will be highly thankful for your support.

 

Be the first to review “Book Review: परत”

Blog content

There are no reviews yet.

error: Alert: Content is protected !!