जलवायु परिवर्तन: वर्तमान अउरी भविष्य (भोजपुरी)

सर्दी, गर्मी, बरसात हमनी के सीधे तौर प प्रभावित त करबे करेला लेकिन हमनी के इ ना जान पवेनीजा कि एकरा पीछे बहूत बड वैज्ञानिक कारण भी बा| पूरा दुनिया एह बात के लेके फिक्रमंद त बडले बा| अउरी अंतराष्ट्रीय स्तर प पिछिला तीन चार दशक से गंभीर रूप से मंथन चल रहल बा कि जलवायु में आवत अनियमितता के कईसे कम कईल जा सकत बा| दुनिया भर के लगभग 200 देश मिलकरके एगो ‘कांफ्रेंस ऑफ़ पार्टी’ बनईले बा जवना के एकईस्वा बैठक लगले पेरिस में भईल ह| ओह लोग के मुख्य उद्देश्य बा कि धरती में बढ़त कार्बनडाइऑक्साइड के कईसे कम जाव जवना से धरती के तापमान के नियंत्रित कईल जा सके|

लेकिन जवना हिसाब के विकास के अँधा दौड़ शुरू भईल बा ओह हिसाब से अंदाजा लगावल बड़ा मुश्किल बा कि आवे वाला समय में जलवायु के का शकल सूरत होई| कबो कबो एह बात के भय भी रहेला कि आवे वाला समय में कहीं अइसन मत हो जाव कि वैज्ञानिक के देवल प्रलय वाला चेतावनी सही मत हो जाव| सबसे बड दिक्कत विकासशील देशन के लेके बा कि विकास अउरी पर्यावरण के बीच कईसे लाइन खिचल जाव जवना से सतत पोषणीय विकास होत रहो|

अंतराष्ट्रीय स्तर प कब का भईल ?

सबसे पहिला जलवायु सम्मलेन 1979 में भईल रहे| ओकरा बाद 1992 में जलवायु सम्मेलन प संयुक्त राष्ट्र संधि भईल रहे| 1995 में पहिला बार कांफ्रेंस ऑफ़ पार्टी के गठन भईल, जवना में 1992 के संधि प हस्ताक्षर करे वाला देश शामिल भईलिसन| ओकरा दू साल बाद 1997 में ‘क्योटो प्रोटोकोल’ प हस्ताक्षर कईल गईल जवना में धनी देश कार्बन उत्सर्जन में कटौती के लक्ष्य रखलस| ओकरा बाद 2007 में इंडोनेशिया के ‘बाली’ में बाली रोड मैप प सहमती जतावल गईल आ ग्लोबल वार्मिंग से निपटे खातिर नया समझौता लावे के बात कईल गईल|

ओकरा दू साल बाद कोपेनहेगन बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा लगभग 100 अरब डॉलर के एगो ‘ग्रीन फण्ड’ बनावे के एलान कईले| हालाँकि उ खुद अपना संसद में एकरा के पास करावे में असफल हो गईले| कुछ अउरी देश भी आपन असहमती जतावल जवना कारण उ प्लान असफल ही रहल| 2012 में क्योटो प्रोटोकॉल के अवधि ख़त्म हो गईल मतलब इ कि पहिला चरण ख़त्म हो गईल| हाल में पेरिस में जलवायु के बदलत रूख खातिर एगो सम्मलेन ‘सीओपी’ के आयोजन कईल गईल ह|

दिसम्बर के पहिला सप्ताह में आयोजित होखे वाला एह सम्मलेन में जलवायु परिवर्तन प बात कईल गईल जवना में 196 पार्टीज के नेतागण शामिल रहन जा| अग्रीमेंट के सफल तबे मानल जाई जब कम से कम 55 देश के एह प सहमती मिल जाई| एकर अग्रीमेंट प हस्ताक्षर के समय अवधि 2016-2017 तक न्यूयॉर्क में करे के जरूरत बा| एह अग्रीमेंट के मुताबिक एगो अईसन गोल सेट करे के बा जवना से ग्लोबल वार्मिंग के 2 डिग्री से कम लावे के कोशिश बा| ओह सम्मलेन के एगो अउरी गोल इ बा कि ओकर तापमान कम कर के 1.5 डिग्री सल्सिअस तक पहुचावल जा सके|

See also  जलवायु परिवर्तन चिंता के गंभीर विषय (भोजपुरी)

कुछ वैज्ञानिक लोग के अनुमान बा कि तापमान वाला उद्देश्य लगभग 2030 अउरी 2050 के बीच मुक्कमल हो सकेला| एह सम्मलेन में वायदा कईल गईल बा कि 1990 के अपेक्षाकृत 2030 आवत आवत लगभग 40% एमिशन में कटौती कईल जाई| ‘EU Edgar database’ के मुताबिक सबसे ज्यादा बदलाव आइल बा 1990 से 2012 के बीच त चीन में आइल बा 3 यूनिट से लगभग 10 यूनिट तक पहुच गईल बा| अमेरिका अउरी यूरोपियन यूनियन के देश में कवनो ख़ास अंतर नइखे आइल पहिलहू लगभग 5 यूनिट करत रहे अउरी आजो करत बा| भारत के अगर देखल जाव त एहिजो काफी अंतर आइल बा नब्बे से दू हजार बारह के बीच| CO2 एमिशन रूस अउरी उक्रेन जईसन देश में घटल भी बा|

अर्थव्यवस्था के राजनीती अउरी कूटनीति  

विकास अउरी पर्यावरण के बीच में इनवर्स के सम्बन्ध बा| अगर अन्धाधुन विकास के कल्पना होई त पर्यावरण के क्षति निश्चित बा| विकास के अँधा दउड़ अउरी पर्यावरण के बीच कहवां रेखा खिचल जाव एह में सब देश अझुराइल बा| सबसे बढ़िया ताजा उदहारण बा चेन्नई में आईल बाढ़| जवना घरी बाढ़ आइल ओह घरी हमहू ओहिजे रही| हर जगह एह बात के चर्चा रहे कि के कतना रोपया के मदद दे रहल बा आ कवन संगठन सक्रीय बा आ कवन ना इहा तक कि हेलीकोप्टर से विडियो बना के लोग टीवी प देखावत रहे कि देखs लोग कईसे डूबेला|

इ सब देखावल त जरूरी चीज बडले बा एगो अउर चीज के बारे में मीडिया टीम के ध्यान देल चाहत रहे कि इ काहे भईल ? खाली ज्यादा बारिश ही एकर कारण बा ? हम एगो प्रोफेसर ‘उमा महेंद्रन जी’ से पूछनी कि सर एकर का कारण हो सकेला? उहाँ से हमार बढ़िया संबंध रहेला| हमेशा साथ में उठना बईठना रहेला| उहाँ के कहनी गौरव केबिन में शाम के आवs ओहिजे कॉफ़ी के साथे चर्चा कईल जाई| हम गईनी त उहाँ के 90 के दशक में मैप देखावे लगनी कि देखs दस साल पाहिले चेन्नई का रहे आ अब का बा?

एगो गाना बा नु हिंदी में ‘सावन आने का कुछ तो मतलब होगा’ ओसही कुआँ, तलाब आ झील के भी कुछ मतलब होखेला खाली अर्थव्यवस्था के राजनीती में फस करके लोग सब तलाब भर भर के बिल्डिंग खड़ा कर देले बा| इ एकदम सरासर गलत बात बा चेन्नई में पहिला हाली अतना बुनी परल बा| नब्बे के दशक में लगभग अतने सेंटीमीटर बुनी आइल रहे आ पहिलहू आवत रहे| मौसम गड्बडईला से ओकरा बाद ओतना बुनी ना परल आ अब परल त उ पानी कहाँ जाव? हम अपना आस पास के एगो साधारण उदाहरन देनी ह|

असही राष्ट्रिय आ अंतराष्ट्रीय स्तर प देश के सोझा अर्थव्यवस्था के राजनीती आ कूटनीति आ जाला जवना से लोग हर बार सम्मेलन में वादा कईला के बादो समझौता करत आइल बा आ करेला| चलीं एगो अउरी उदहारण के दने बढल जाव जवना के सेंट्रल आईडिया उहे बा बस रूप अलग बा| रिलायंस एकर बरियार उदाहरन बा| इ शायद कोई से नईखे छुपल कि अंबानी घराना के बढ़िया संबंध गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री मोदी जी से रहल बा| एगो अउरी बात भी सत्य बा कि ओकरा पाहिले कांग्रेस से भी बढ़िया ओही प्रकार के सम्बन्ध रहल बा| इहाँ तक कि एकबेरी रेडियो टेप में बहूत पाहिले अंबानी जी कहले रही कि ‘कांग्रेस तो अपनी दुकान है’|

See also  "मेक इन इंडिया" कांसेप्ट के आगे चुनौती के भरमार (भोजपुरी)

इहो एगो सत्य बात बा कि रिलायंस के उत्थान भी कांग्रेस के ही कारण भईल बा| सरकार के कूटनीति भी बराबर के भागीदारी रहेला एह में| गुजरात में मोदी जी जवना हिसाब से पूंजीपति लोग खातिर जबरन जमीन अधुग्रहण कईले आ पर्यावरण से सम्बंधित मुद्दा के दरकिनार कईले ओह से आर्थिक राजनीती के आसानी से अंदाजा लगावल जा सकत बा| गुजरात के कच्छ जिला में पूंजीपति अडानी जी आपन निजी बंदरगाह ‘मुद्रा’ के आसपास जतना पर्यावरण के विनाश कईले ओकरा खातिर उनका प जुर्माना भी लगावल जा चुकल बा| एह प्रकार के दर्जनों केस ओह लोग लेखा आदमिन प चल रहल बा| ओकर जवाबदेही के कवन जिम्मेदारी बा उहे लोग जानत होई|

इ बात शायद बतावे के जरूरत नइखे कि मोदी जी के शासनकाल में आदानी जी के ख़ूब चानी कटल बा| जब हम गूगल करत रही त एगो बड़ा ही बढ़िया फैक्ट मिलल| सन 2000 में आदानी जी के कुल कमाई 3300 करोड़ रुपया रहे उहे 2014 चहुपते चहुपते लगभग पचास हजार करोड़ हो गईल| हतना बढ़िया उछाल बिना पर्यावरण के समझौता से होखल होखे हम मानिए नईखी सकत| इ उहे मोदी जी हई जे एकदम हडाह भाषण लगले पेरिस के सम्मलेन में देनी ह| एह से अंदाजा लगावल जा सकेला कि नेताजी लोग के सम्मलेन के कथनी अउरी करनी में कतना अंतर बा| अइसना में लोग के उ सवाल बिल्कुल गलत नइखे कि तमाम राजनितिक पार्टी के खर्चा कहाँ से आवत बा?

जलवायु प जवाबदेही जरूरी    

सबसे बड दिक्कत इ बा कि सम्मलेन त होला लेकिन ओकर मूल्यांकन समय समय प ना होला| एह से जलवायु जईसन मुद्दा प जवाबदेही के प्रधानता देल बेहद जरूरी बा| एहिजा एगो बात निकलके इहो आवेला कि देशन के बीच कार्बन एमिशन के लेके बातचीत साफ़ ना हो पावेला जवना से जवाबदेही प्रभावित होला| जवन देश आज पिछुआइल बा अर्थव्यवस्था के विकास के दौड़ में, उ तर्क देवेला कि विकसित भईल लोग एही रास्ते विकसित भईल बा त ओह लोग प रोक काहे लागत बा| सुझाव के रूप में देवेला कि एगो संतुलन बनावल जाव विकसित अउरी विकासशील देश के बीचे जवना से विकासशील देश भी ओह लोग के बराबरी कर सके|

कहे के मतलब इ कि कुछो होखे बिना पर्यावरण के समझौता के लोग के सबुर नइखे| हमरा समझ से होखे के इ चाहत रहल ह कि विकसित देश पर्यावरण से समझौता के जगहा प आपन तकनीक के आदान प्रदान करीत जवना से विकासशील देश आपन विकास बढ़िया कर सकित आ पर्यावरण के नुकसान भी ना पहुचित| दूसरा बात इ कि हमनी के पूरा तरह से सौर्य उर्जा प निर्भर ना रह सकिला जा| लेकिन ओकरा के सिस्टेमेटिक तरीका से उपयोग करके कार्बन एमिशन प्रक्रिया के कम जरूर कर सकि लाजा|

See also  बांग्लादेश भूमि सीमा समझौता अउरी बदलत मानचित्र (भोजपुरी)

उदाहरन के रूप में लेब बिहार के धरनाई गाँव के केस स्टडी जहवां एगो गाँव के मॉडल के रूप में बनावे के कोशिश कईल रहे| ग्रीन पीस नाम के संस्था के अनुकूल अउरी प्रतिकूल दुनो प्रकार के हस्तक्षेप के परिणाम स्वरुप ओह गाँव में बिजली खातिर सोलर पैनल के व्यवस्था कईल गईल| एह केस स्टडी में देखी कवना कवना प्रकार के चुनौती आवेला जब कार्बन उत्सर्जन के बाय बाय करे के कोशिश कईल जाला| सबसे पहिला दिक्कत इ आइल कि जवन गैर सरकारी संस्था लगवावे के कोशिश कईले रहे ओकरा अंदर भ्रष्टाचार के प्रतिबिम्ब रहे| दूसरा बात इ हो गईल कि गाँव में एह प्रकार के अन्धविश्वास फैला देहल गईल कि सरकार बुरबक बनावत बिया सोलर के कनेक्शन देके जबकि हर शहर में चकाचक लाइट रहेला|

उहे धरनाई गाँव ह जहाँ ओह घटना के पाहिले किरासन के दिया जलत रहे लेकिन जब सौर उर्जा आइल त राजनीती लउके लागल| सालोभर दिन बरोबर थोड़ी न होखेला आ मौसम एकसमान थोड़ी न रहेला| जईसे बरसात के मौसम आइल त इलेक्ट्रिसिटी में तनी मनी कमी आइल लोग के अन्धविश्वास सच लेखा लागेलागल| एकदिन ‘लाल सलाम’ के मित्र लोग आके सब उखाड़ उखाड़ के फेक दिहल लोग आ लाल सलाम के नारा लगावत चल गईल| एह से जलवायु जईसन मुद्दा प राजनितिक, सामाजिक अउरी इकोनोमिकल जवाबदेही जरूरी बा| रिव्यु कतना समय प होता आ ओह प का निर्णय लेल जाता इहो काफी अहम बिंदु बा|

अंत में निष्कर्ष के रूप में इहे कहल चाहब कि जलवायु जईसन मुद्दा के इग्नोर ना करे के चाही, एगो जिम्मेवारी के रूप में लेवे के चाही| जनता के भागीदारी के अहम भूमिका बा सारा समाज के एह मुद्दा के प्रति सजग होखे के चाही| इ अइसन मुद्दा ह जवना के सह प ना त राजनीती हो सकेला आ ना झूठा चुनावी वादा| एकरा पीछे कारन इ बा कि इ मुद्दा कवनो जात आ धर्म से सम्बंधित नइखे| जतना ईट प ईट लोग बाबरी मस्जिद आ राम मंदिर के मुद्दा प बजावत बा ओकर 50% उर्जा पर्यावरण प दे दिही त आवे वाला पीढ़ी हमनी के सुखमय हो जाई| एह से इ खाली सरकार आ सम्मलेन के काम ना ह बल्कि देश में सब लोग के मिलके एह में भाग लेवे के चाही तबे जाके सम्मलेन के उद्देश्य पूरा होई| देश के राजनितिक परिवार के लोग के भी तनी ध्यान देवे के चाही कि पईसा के साथे साथे पर्यावरण के ना खाए के चाही|

 नोट:- हमार इ लेख आखर पत्रिका के जानवरों 2016 के अंक  के अंक में छप चुकल बा|

Spread the love

Support us

Hard work should be paid. It is free for all. Those who could not pay for the content can avail quality services free of cost. But those who have the ability to pay for the quality content he/she is receiving should pay as per his/her convenience. Team DWA will be highly thankful for your support.

UPI ID: [email protected]

"OR"

You can make secured payment by any means from here

Leave a Comment

error: Content is protected !!